हंसी के फव्‍वारे का नया पता

Thursday, June 23, 2011

Funny Shayari चटपटी मजेदार शायरी

मेरे दोस्‍त तुम भी लिखा करो शायरी
तुम्‍हारा भी मेरी तरह नाम हो जायेगा
जब तुम पर भी पड़ेंगे अंडे और टमाटर
तो शाम की सब्‍जी का इंतजाम हो जायेगा

======================

यूज करते हैं मेक-अप का डब्‍बा रोज क्‍यूं
बन-संवर के निकलते हैं रोज क्‍यूं
मम्‍मी तुम तो कहती थीं ईद कब की गयी
फिर पड़ोसन से गले मिलते हैं पापा रोज क्‍यूं

======================

जिसे कोयल समझा वो कौवा निकला
दोस्‍ती के नाम पर हौव्‍वा निकला
जो रोका करते थे हमें शराब पीने से
आज उन्‍हीं की जेब से पौव्‍वा निकला

======================

वो आज भी हमें देखकर मुस्‍कुराते हैं
हम आज भी उन्‍हें देखकर मुस्‍कुराते हैं
ये तो उनके बच्‍चे ही कमीने हैं
जो हमें मामा-मामा कहके बुलाते हैं

2 comments:

Dilbag Virk said...

wah--wah--

UMASHANKAR VISHVAKARMA said...

======================जिसे कोयल समझा वो कौवा
निकला
दोस्ती के नाम पर हौव्वा
निकला
जो रोका करते थे हमें शराब
पीने से
आज उन्हीं की जेब से पौव्वा
निकला
======================